Search

जानिए सिरोही के इतिहास के बारे में

राजस्थान में स्थित सिरोही जिला राज्य के दक्षिण में गुजरात की सिमा से लग के में स्थित है। सिरोही जिल्ला पाली, उदयपुर जालोर और गुजरात के बनसकंठा जिले से घिरा हुआ है। सिरोही जिले का कुल क्षेत्रफल 5136 वर्गकिलोमीटर है। , जो राजस्थान राज्य के कुल क्षेत्रफल का लगभग 1.52 प्रतिशत है। बांसवाड़ा और डुंगरपुर के बाद, सिरोही राजस्थान का तीसरा सबसे छोटा जिला है।


सिरोही जिला पहाड़ियों और चट्टानी पर्वत से दो भागो में बट गया है। मांउट आबू के ग्रेनाइट पहाड़ ने जिले को दो हिस्सों में विभाजित किया हुआ है , जो उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम तक चल रहा था। जिले के दक्षिण और दक्षिण-पूर्व हिस्से, जो माउंट आबू और अरावली के बीच स्थित है। जिले का मुख्य स्टेशन आबू रोड है जो की दिल्ली – अहमदाबाद रेल लाइन पर स्थित है। सूखे पर्णपाती जंगलो की जिले के इस हिस्से में अधिकतकता है, और माउंट आबू की ऊंची ऊंचाई को शंकुधारी पेड़ो के जंगलों में शामिल किया गया है।


राव सोभा ने 1405 में, (जो चौहानों के देवड़ा वंश के राव देवराज के वंश में छठे स्थान पर थे) ने सिरानवा पहाड़ी की ढलान पर एक शहर शिवपुरी की स्थापना की जिसे खूबा कहा जाता था। पुराने शहर के अवशेष यहां वर्तमान में स्थित हैं और विरजी बावसी का एक पवित्र स्थान अभी भी स्थानीय लोगों के लिए पूज्य है।


sirohi killa
sirohi killa


राव सोभा जी के पुत्र शेषमल ने सिरानवा पहाड़ियों की तलेटी पर वर्तमान शहर सिरोही की स्थापना की थी। उन्होंने संन 1425 ईसवी में वैशाख के दूसरे द्वितिया को सिरोही किले की नींव रखी। इसे बाद में सिरोही के नाम से जाना जाने वाला देवड़ा वंश के राज्य की राजधानी के रूप में पूरे क्षेत्र के रूप में जाना जाता था। पुराणिक काल में इस क्षेत्र को अर्बुद्ध प्रदेश अथवा अर्बुंदाचल कहा जाता है।


आजादी के बाद भारत सरकार और सिरोही राज्य के तत्कालीन शासक के बीच विलय का समझौता हुआ और 5 जनवरी 1949 से 25 जनवरी 1950 तक बॉम्बे सरकार के अधीन रहा । प्रेमा भाई पटेल बॉम्बे राज्य के पहले प्रशासक थे। स्थानीय आंदोलन के बाद 1950 में, सिरोही अंततः राजस्थान के साथ मिला लिया गया हो गया। सिरोही जिले के आबूरोड, सिरोही, रेवदर, पिंडवारा और शिवगंज को तहसील बनाया गया।


प्रशिद्ध इतिहासकार कर्नल टॉड ने माउंट आबू को हिंदुओं के ओलंपस के रूप में बताया क्योंकि यह पुराने दिनों में एक शक्तिशाली साम्राज्य हुआ करता था। आबू को मौर्य वंश में चंद्र गुप्त ने अपने साम्राज्य का हिस्सा बनाया, मौर्य वंश ने चौथी शताब्दी तक इस क्षेत्र पर शासन किया था।


आबू क्षेत्र पर गुप्त, सोलंकी और परमारो ने भी राज किया। ईस्वी सन 1311 में जालोर के चौहान शाशको ने परमारो को हरा का इसपे कब्ज़ा किया और बनास नदी के तट पे चंद्रावती नगरी राज्य की राजधानी थी और राव लुम्बा ने 1320 तक इसपे शाशन किया।


राव शोभा जो की राव लुम्बा के ही वंशज थे उन्होंने चंद्रावती को त्याग कर शोभा के पुत्र शेषमल द्वारा 1425 सिरणवा पहाड़ियों के तलेटी में नए किल्ले का निर्माण किया गया और सिरोही नगर की स्थापना की और अपनी राजधानी बनाया। राव शेषमल ने आबू ,पिंडवाड़ा और बंसन्तगढ़ पे विजय प्राप्त कर के इसे अपने राज्य में मिला लिया।


तब से यहाँ देवड़ा शाशको का ही शाशन रहा और 37 देवड़ा राजाओ ने इसपे राज किया वर्तमान में 38 वे राजा है।


sharneshwar ji mandir
sharneshwar ji mandir


सिरोही के प्रमुख पर्यटन स्थल


अजारी मंदिर (मार्कंडेश्वर जी)


अंबेश्वर जी (कोलारगढ़) मंदिर


भेरू तारक धाम


जीरावल जैन मंदिर


पावापुरी मंदिर


शारणेश्वरजी महादेव मंदिर


नक्की झील माउंट आबू


देलवाड़ा जैन मंदिर


Read More - जानकारी माउंट आबू की - इतिहास और देखने लायक स्थान


By - Sushil Rawal


16 views0 comments